کلاسک

    
 

मुड्ढला वरका > हिंदी विचार > आखिआ वारिस शाह ने > हीर वारिस शाह बंद: 27

हीर वारिस शाह बंद: 27

डाकटर मनज़ूर इजाज़

October 25th, 2009

4.5 / 5 (10 Votes)

 

 

रूह छड्ड कलबूत जिउं विदा हुंदा, तिवें इह दरवेश सुधारिआ ई
इन पानी हज़ारे दा किसम करके कसद झंग सिआल चितारिआ ई
कीता रिज़क ते आब उदास रांझा चलो चल ही जीव पुकारिआ ई
कच्छे वंझली मार के रवां होया वारिस वतन ते देस विसारिआ ई

औखे लफ़ज़ां दे मानी

दरवेश: फ़ारसी ते पुरानी फ़ारसी दा अखर ए पहिलवी माख़ज़ वी हो सकदा ए। संसक्रित नाल वी इस अखर दा जोड़ ए। दरवेश जिहड़ा कुझ वी ना होए जिस दा कोई दावई ना होए कोई claim कोई समाजी रुतबा ना होए जिहड़ा आप कुझ नहीं। दर तों बाहर वास ए - दर वास। जिहड़ा सदा लाउंदा ए। मंग के खाना। ख़ानकाई रहितल विच दरवेश दी कदर विधी। मुड़ जिहड़े selfless हो गए उन्हां ग़रीबी अपना लई।
कलबूत: ढांचा।
रूह कलबूत: बंदे दी वंड Body and Mind विच कर दित्ती। डीकारट ने इस नूं होर वधाया ते असलों इह वंड उदों वापरी जद निजी मालकी आई इक कम करन वाले ते इक खान वाले सन।
विदा: छड्ड जाना।
सुधारिआ: चला गिया, टुर पिया।
इन: अनाज।
खाना, इन पानी: खाना पीना। किसम कर के: आपने आप ते हराम करके, मतलब किसम खालई जो हुन इथों दा दाना पानी नहीं खाना।
कसद: इरादा, नित्त।
चितारिआ: तसव्वर बना लिया।
रिज़क: खाना पीना।
आब: पानी।
उदास: रंज करना, बे तालुक हो जाना।
कच्छे: बग़ल।
रवां: रवाना, चलावां।
वतन: वतन। technical अखर ए। किसे इलाके दा डोमी साइल। रांझा ज़ात दा मतोतन मोज़ा हज़ारा। मनसब दार। राव॓ होया: जारी होना। To be in motion, on the move।
देस: आबादी दी थां।
वसारना: भला देना।

सिद्धा मतलब

जिवें ढांचे नूं (मतलब इनसानी जुस्से नूं) रूह छड्ड जांदी है, उवें ही इह दरवेश उथों (तख़त हज़ाराईउं) सुधार गिया। उस ने तख़त हज़ारे दा खाना पीना आपने आप ते हराम कर लिया ते दिल विच झंग सिआल दा तसव्वर कर के उथे जान दी नीअत बंन्ह लई। [तख़त हज़ारे दे] खान ते पीन तों तालुक तोड़ लिया ते उस दे दिल ने कहिआ हुन बस इथों चला चल। उह अपनी वंझली ते कुछ विच मार के नाल लै गिया पर उस अपना देस ते वतन भुला दित्ता।

खलारवां मतलब

इह बंद कहानी तों बाहर वी है ते अंदर वी। बाहर इस तर्हां जो इह किरदारां दे विचकार गल बात उन्हां दे जोड़ या अजोड़ बारे नहीं। अंदर इस लई जो वारिस शाह इत्थे रुक के कहानी ते उस दे मुड्ढले किरदार रांझे दा ही तत्त निखेड़ रिहा है। उह कहि इह रिहा है जो पड़्हन वालिओ, मैं तुहानूं इक समाजी डरामा विखा रिहा सां। उस विच मेरा मुड्ढला किरदार वी कई उहो जिहीआं गल्लां कर रिहा सी या मैं करवा रिहा सां जो समाजी डरामे विच हुंदिआं नें। पर हुण रुको, मैं तुहानूं उस किरदार दे तत्त ते चान्न पानदां हां।

ते तत्त इह है जो रांझा इक दरवेश सी जिहड़ा तख़त हज़ारे नूं इंज ही छड्ड के जा रिहा है जिवें रूह कलबूत या जुस्से दे ढांचे नूं छड्ड जांदी हे। उह तख़त हज़ारे दे वसेब दे ढांचे विच इक कल्ली रूह सी जिहड़ी उस नूं तियाग के जा रही है, मतलब पिच्छे सिरफ़ मुरदा कलबूत रहि गिया है।

जद रूह कलबूत या जिसम नूं छड्ड दिंदी है ते कलबूत बे कार हो जांदा हे, जिसम गलना सड़ना शुरू हो जांदा हे ते अख़ीर मिट्टी विच मिट्टी होजांदा है। रांझा तख़त हज़ारे दे मुरदा ढांचे दी रूह सी, जे उह छड्ड तुरिया है ते पिच्छे सिरफ़ गलण सड़न वाला ढांचा रहि गिया है।

कलबूत तों मुराद समाजी ढांचा वी है। मतलब तख़त हज़ारे दा कलबूत उस दा समाजी ढांचा है जिस विच रांझे ने रूह दी फोकनी मारी सी, पर उस नूं कड्ढ दित्ता गिया। पिच्छे तख़त हज़ारे दा ढांचा इक बे जान गलिआ सड़िआ निज़ाम है।

इस मिस्रे तों इह वी ज़ाहर हुंदा है जो रांझे दा तख़त हज़ारे नूं छड्डना इक जीवन नूं मकावना है। उस जीवन विच टब्बर, देस ते वतन दीआं बंदशां सन उस दा मोह सी, पर जदों उह उस ने छड्ड के तर्र पिया ते उह उस लई उह समाज सदा लई मर गिया ते उह समाज वी उहदे लई मर गिया। हुण उस दा नवां जीवन शुरू हुंदा है जिस विच उस कोल ना वतन है ना देस बस इक वंझली है। अग्गे जा के वारिस शाह होरां इक होर थां ते वी इस गल नूं दुहराया है:

जिहड़ा देस ते वतन दा धिआन रखे, दुनीया दार है उह दरवेश किहा

फिर इह वी है जो रूह कलबूत विच मुड़ के नहीं आ सकदी, इस लई रांझा वी कदी मुड़ के नहीं आ सकदा। जद कदी आवे गा (जिवें कहानी दे अख़ीरी हिस्से विच उह मुड़ के आउंदा है) ते उह जिऊंदा नहीं रहवे गा। जे रूह मुरदा कलबूत वल फिर आवे वी ते उस विच ना वड़ सकदी है ते ना रहि सकदी है। इस लई रांझा वी तख़त हज़ारे आके मरे ही मरे।

दूजे ते तरीजे मिसरे विच रांझे दे तख़त हज़ारे नूं तियागन दा ज़िकर है। यानी हुन उस ने तख़त हज़ारे दी रोटी पानी ते जिउंदिआं रहिन नूं तियाग दित्ता है, उस नूं ना वरतन दी किसम खा लई है।

रांझा तख़त हज़ारे तों सिरफ़ इक शैअ लै के जा रिहा है ते उह है उस दी वंझली, जिहड़ी दिल दी हूक नाल वजदी है। ते इह हूक उह आपने नाल लै गिया हे, बाकी उस ने वतन ते देस नूं आपने आप विच्चों ख़ारज कर दित्ता है।

प्रोफ़ैसर ज़ुबैर अहिमद होरां दा सोधी होई टैकसट ते कुझ लफ़ज़ां दे मानी घलण दा शुकरीया।

 

More

Your Name:
Your E-mail:
Subject:
Comments: