کلاسک

    
 

मुड्ढला वरका > हिंदी विचार > आखिआ वारिस शाह ने > हीर वारिस शाह बंद: 26

हीर वारिस शाह बंद: 26

डाकटर मनज़ूर इजाज़

October 25th, 2009

4 / 5 (4 Votes)

 

 

ख़बर भाईआं नूं लोकां जा दित्ती, धीदो रूस हज़ारिओं चलीआजे
हल वाहणा उस तों होए नाहीं, मार बोलीआं भाबीआं सलीआजे
पकड़ राह टुरिया, हंझू नैन रोवन, जिवें नदी दा नीर अछलीआजे
अग्गे वीर दे वासते भाईआं ने अधवाटीउं राह जा मलीआजे

औखे लफ़ज़ां दे मानी

बोलीआं: मिहने।
सल्लिआ: छेक या सुराख़ कर देना। तीर दा आरपार लंघ जाना।
नीर: पानी, नदी दा नीर, नदी दा पानी।
उच्छलिआ: भरी होई किसे शैअ चों ढल के बाहर डिगना।
वीर: भरा।
अधवाटीउं: अद्धे रसते विच्चों।
राह मिलना: राह रोक लैना

सिद्धा मतलब

लोकां भाईआं नूं ख़बर पहुंचा दित्ती जो धीदो ते रूस के तख़त हज़ारिओं चला चलिया ए। उस कोलों हल वगदा नहीं ते उत्तों भाबीया॓ बोलीआं मार मार के उस दा दिल छेक दित्ता है (दिल विच सुराख़ कर दित्ते हन)। उह टुरिया जांदा है ते उहदीया॓ अखां विच्चों अत्थरू वगदे जांदे नें। उह इंज रोंदा जांदा हे या उस दीया॓ अक्खां विच्चों इंज अत्थरू वग रहे हन जिवें किसे नदी तों पानी उछल के बाहर डिग्गन लग्ग पवे। मतलब बहुत ही रो रिहा है। आपने भरा लई मतलब रांझे लई अद्धे रसते विच जा के राह रोक लिया।

खलारवां मतलब

वेखन नूं इह बंद बड़ा सिद्धा सिद्धा जापदा है जिस विच लोकीं भरावां नूं जा के दसदे हन जो उन्हां दा निक्का भरा धीदो रुस के चलिया है। उह इस लई जा रिहा है जो उस तों हल वगदा नहीं ते भाबीया॓ ताने मिहने मार के उस दा दिल छानणी कर छड्डिआ ए। उह टुरिया जांदा है पर बड़ा ही रो रिहा है जिवें नदी बाहर उछलन लग पवे। इस नूं सुण के भाई उस नूं रसते विच जा डकदे हन।

पर इत्थे इह वेखो जो जदों भाईआं काज़ी ते पैंचां नूं वड्ढी दे के भोएं आपने नां लवा लई सी, बंजर ज़िमीं रांझे नूं दे दित्ती सी ते इहो उह लोक सन जिहनां बारे कहिया गिया सी जो "कच्छां मार शरीक मज़ाक करदे" ते "मगर जट्ट ते फकड़ी लाही आही" पर हुन जदों रांझा खेड मुका टुर पया है ते लोकां दूजा पैंतरा फड़िया है।

हुण उहो लोक भाईया॓ नूं छिड़ी ख़बर ही नहीं दे रहे उन्हां नूं जता वी रहे हन जो तुसां अपना निक्का भरा देसों कड्ढ दित्ता है। उहो शरीक हुण पुट्ठी छुरी होके भरावां दे ख़िलाफ़ वग रहे हन ते भरावां नूं ताने मारन लई दस रहे हन जो की होया उस कोलों हल नहीं सी वगदा पर इह वी ते चंगा नहीं सी जो भरजाईआं उस दा दिल छानणी कर दिंदि॓या॓!

फेर लोकीं भरावां नूं होर झोटा करन लई उस दे ज़ार ज़ार रोन दा नकशा वी खिचदे नें। उह इह दस्सन लई पई तुसीं काहदे भरा हो जिहनां दा निक्का वीर इंज रोंदा करलावनदा घर्र छड्ड के चला जावे। इहो गल सुन के भरा उस नूं डक्कन लई पहुंच जांदे नें।

समाज विच इह डरामा रोज़ हुंदा है, लोक मज़लूम दा ठट्ठा बनव्न्दे हन उस दे माड़े होवन ते उस दी फकड़ी लावनदे हन पुरजे उह माड़ा खेड छड्ड के तर्र पवे ते उहो लोक धरू करन वालिया॓ नूं छबीआं देन दी खेड शुरू कर दिंदे नें। पेंडू समाज विच ते शरीक कम ही इह करदे नें, जो पहिलां धीदो नूं मज़ाक करदे नें ते फिर भरावां नूं बोलीआं मारन लई तियार हन।

इस खेड दी वारिस शाह नूं बड़ी सार समझ है। इस लई अग्गे जा के वेखोगे जो उह रांझे कोलों कहावंदा है: "विच्चों ख़ुशी हो असां दे निकलने ते मूंहों आखदे गल किउं संगदे हो"

 

More

Your Name:
Your E-mail:
Subject:
Comments: