کلاسک

    
 

मुड्ढला वरका > हिंदी विचार > आखिआ वारिस शाह ने > हीर वारिस शाह बंद: 25

हीर वारिस शाह बंद: 25

डाकटर मनज़ूर इजाज़

October 25th, 2009

4.5 / 5 (6 Votes)

 

 

किहा भीड़ मचाईवई लुचीया वे, मत्था डाहीव ई सोकनां वांग किहा
जा सजरा कम गुवा नाहीं, हो जासीआ जोबना फिर बेहा
रांझे खा ग़ुस्सा सिर धौल मारी, केही चिंबड़ी ऊं नूं वांग लेहा
तुसीं देस रक्खो असीं छड्ड चले, लाह झगड़ा भाबीईए गल ईहा
हत्थ पकड़ के जुत्तीआं मार बुक्कल, रांझा हो टुरिया वारिस शाह जिहा

औखे लफ़ज़ां दे मानी

भीड़ मचाना: टक्कर मारना, टक्करां दा मुकाबला करना या करवाना।
लुचीया: बदमाश, बे शरम, आवारा।
मत्था डाहना या मत्था लाना: मुकाबला करना, आमने सामने होना।
सुक्कण: ख़ावंद दी दूजी बीवी।
सजरा: ताज़ा।
हो जासीआ: हो जावे गा।
जोबना: जवानी।
बेहा: बासी।
धौल मारना: बांह नाल किसे दे सिर नूं पिच्छों मारना, धक्का देना।
लेहा: ऊं या रेशम दे कपड़े नूं खावन वाला कीड़ा। चिंबड़ी ऊं नूं जिवें लेहा: जिवें ऊं (दे कपड़े नूं) नौं लीह लग जांदी हे, कीड़ा चिंबड़ जांदा हे। इह कीड़ा हौली हौली विच्चों विच कपड़े नूं खा जांदा हे।
देस: मुलक, थां। पकड़ के जुत्तीआं: पुराने वेलिआं विच सगों किझु दहाके पहिलां ताईं पिंडां दे लोक जुत्तीआं हत्थ विच या कुछ विच रख के पैंडा करदे सन। इह इस लई जो जुत्ती घस ना जावे। उह जुत्ती नूं बहुत औखे वेळे या परोहन चारी करन वालिआं दे पिन्ड या घर दे लागे जाके जुत्तीया॓ पाउंदे सन।

सिद्धा मतलब

तूं बदमाश लफ़नगेया किहो जिही टकर लै रिहा एं, तूं किउं सोकनां वांग साडे नाल मुकाबला कर रिहा एं। जा छेती जा सजरे सजरे इस कंम ते चला जा नहीं ते तेरी जवानी पुरानी ते बीही हो जावेगी। रांझे नूं इस गल ते बड़ा ग़ुस्सा आया ते उस भाबी नूं धौल मार के कहिया जो तों इंज पिच्छे पै गई हैं जिवें ऊं नूं लेहा यानी कीड़ा चिंबड़ जांदा हे। तुसीं अपना देस (बसती) आपने कोल रखो ते असीं इथों छड्ड चले आं। हुन इह झगड़ा ही लाह लै भाबीए। [रांझे ने हथ विच जुत्तीया॓ फड़िआ, बुकल मारी ते वारिस शाह वांगूं उथों चलदा बन्या।

खलारवां मतलब

इस बंद विच भाबीया॓ आपने मिहने ते ठट्ठे दे ढंग विच ही उस नूं कहिंदीया॓ हन जो तों लुचीया॓ वांग टकर लई आ ते सोकनां वांग आढा ला या है तूं जा, सगों छेती जा, अजे तेरी नवें जवानी ए फिर किते बुड्ढा हो गिओं ते की करीं गा।

तीजे मसरे विच रांझा भाबी नूं धौल मार के बड़ी मुड्ढली गल कहिंदा है, जो भाबीया॓ या उहनां वरगे लोक समाज नूं कीड़े वांग चिंबड़े होए हौली हौली चट्ट करी जा रहे हन। समाज आप ते शाइद ऊं वांग नरम ते गरमाइश देन वाला है पर इस तर्हां दे लो्ह इस नूं लेहा दे कीड़े दी तर्हां हौली हौली खाई जा रहे हन। मतलब इस तर्हां दे लोकां ने समाज नूं विच्चों खुदा कर दित्ता होया ए।

ते चौथे मसरे विच उस गल दी दुहराई है यानी इस तर्हां दा अंदरों कीड़िआं खादा समाज तुसीं आपने कोल ही रक्खो। इहो जिहे समाज ते झगड़ा की करना, सो असीं झगड़ा मुका के जारहे हां।

अख़ीरी मसरे विच वारिस शाह रांझे नूं आपने हार दस के कहिंदा है जो उथों जान लग्गा कुझ लै के नहीं जा रिहा, सिवाए पैर दीया॓ जुत्तीया॓ दे ते बुक्कल वाले कपड़े दे। "मार बुक्कल" तों इंज लगदा है जो रांझा उस समाज दा दितासारा दुख ते दरद आपने अंदर वलेट के टुरिया है।

वारिस शाह नूं वी वेखो। उह मलिका हांस दी मसीत विच बहि के एना चिर किउं लिखदा रिहा, उह इह कंम आपणे देस जंडियाला शीरख़ां विच किउं नहीं सी कर रिहा? उह किहड़े कारन सन जिस उहनूं शेख़ूपुरे दे जंडियाला शेर ख़ान तों कड्ढ के साहीवाल दे कसबे मलिका हांस विच सुट्टिया होया सी? इस लई जदों वारिस शाह कहिंदा है "रांझा हो टरीया वारिस शाह जिहा" ते इस विच कुझ वारिस शाह दी अपनी हयाती वी झलक मारदी है।

 

More

Your Name:
Your E-mail:
Subject:
Comments: