کلاسک

    
 

मुड्ढला वरका > हिंदी विचार > आखिआ वारिस शाह ने > हीर वारिस शाह बंद: 23

हीर वारिस शाह बंद: 23

डाकटर मनज़ूर इजाज़

October 25th, 2009

4.5 / 5 (3 Votes)

 

 

साडा हसन पसंद ना लीआवनां एं, जा हीर सिआल विवाह लियावीं
वाह वंझली प्रेम दी घत्त जाली, काई नड्ढी सिआलां दी फाह लियावीं
तैं थे वल है रंनां वलावने दा, रानी कोकलां महिल तों लाह लियावीं
दिन्ह बूहिउं कड्ढनी मिले नाहीं, रातीं कंध पिछवाड़िओं ढाह लियावीं
वारिस शाह नूं नाल लै जाइकै ते, जिहड़ा दाउ लग्गे सो ई ला लियावीं


औखे लफ़ज़ां दे मानी

विवाह: वियाह।
वाह वंझली: वंझली वाह के, वंझली वजा के।
घत्त जाली: जाल विछा के।
नड्ढी: जवान औरत।
फाह: फसा।
तैं थे: तेरे कोल, तैनूं।
वल: तरीका, मुहारत।
वलाना: चकर देना, पिच्छे ला लैना, गल्लां बातां नाल आपने पासे टुर लैना।
रानी कोकिलां: राजा सिरकप दी धी सी जिस नूं राजा रसालू ने जूए विच जित्तिआ सी। राजा रसालू कोकिलां नूं महिल विच छड्ड के उन्हां ते तोता ते मीना दा पहिरा ला गिया। रानी कोकिलां ने राजा होडी नाल अंग जोड़ लिया, जिहड़ा उस नूं कंध दे पिछवाड़िओं कमंद सुट्ट के लाह के लै गिया।
देना: दिन। बूहिउं कड्ढना। वियाह कर के लै जावना।
पछवाड़:घर्र दी पिछली कंध।

सिद्धा मतलब

जे तैनूं साडा हसन पसंद नहीं है ते जा के सिआलां दी हीर (उस वेळे उस दी धूम दूर दूर ताईं होवेगी) वियाह लिया। जाके वंझली वजा के प्रेम दा जाल सुट्ट ते कोई सिआलां दी जवान कुड़ी फसा लिया। तैनूं औरतां नूं आपने पिच्छे लावन दा ढंग आउंदा है, (इस लई) तों रानी कोकिलां नूं महिल विच लाह के लै आ। जे कर दिन वेळे बूहिउं कड्ढ ना सकें मतलब जे वियाह के ना लिया सकें ते रात नूं घर्र दी पिछली कंध ढा के लै आ। तों इस कंम लई वारिस शाह नूं आपने नाल लै जा, ते जिहड़ा ढंग वी वरत सकणा हैं वरत के वेख लै।

खलारवां मतलब

भाबी दे इस डाइलाग विच कुझ बड़ीआं मुढलीआं गल्लां हन। उह रांझे दी इस गल दा जवाब दे रही हन जो जे तेरा ख़ियाल है जो असीं हसन दे ग़रूर वालिआं हां ते तैनूं साडा हसन पसंद नहीं आउंदा ते तों सिआलां दी हीर वियाह लिया।

हीर दा नां इत्थे भाबीआं बोली ते ताने तौर लिया॓दा है। इस तों पहिलां रांझे नूं हीर दा कोई पता नहीं है। वारिस शाह दी कहानी दी बुणतर एथों ही दूजिआं नालों वखरी हो जांदी हे। दमोदर दास विच रांझे नूं झंग सिआलां दे इलाके विच जावन तों पहिलां हीर दा कोई पता नहीं है। इस लई इह नहीं कहिया जा सकदा जो उह झंग सिआल हीर दी ख़ातिर गिया सी।

शाहजहां मुकबल होरां दी हीर रांझे दी कहानी विच रांझे नूं हीर सुफ़ने विच दस्सी है ते उह सभ छड्ड के झंग टुर पैंदा है, उहदी कहानी विच रांझे दा भाबीआं नाल वी कोई झगड़ा नहीं, सगों भाबीआं उहनूं पियार मुहबत नाल रोकदीआं हन जो तों ना जा पर रांझा टुर पैंदा है। हाफ़िज़ मुकबल दी दस्सी कहानी इस तर्हां दे ख़ियाली जोड़ां नाल बनी है।

वारिस शाह दी कहानी शुरू ही समाजी टकरा तों होई है। पहिलां तां भरावां नाल ज़मीन दा टकरा ते फिर वड्ढी खान वाला अदालती निज़ाम उस दा वैरी है। फिर टब्बर दा दूजा हिस्सा, यानी भाबीआं उस दे जीवन ढंग नूं झल नहीं सकदीआं ते अख़ीर हीर सिआल नूं वियाह लियाव्न दा मिहना मारदीआं हन।

इस पिछोकड़ विच्च वारिस शाह दस्स रिहा है जो इशक दीआं जड़ां ते किते समाज दे अंदर वसीबी टकरा विच ही हन। उहदा बीं समाज दे ज़ुलम, जबर ते धरू नाल पुंगरदा है। धीदो नूं "रांझा" ब्नाव्ना विच समाज दा सताउणा ते धरोह वड्डा हिस्सा पाउंदा है। उह हीर दा आशिक समाज दा डंग खा खा के अपनाव्न्दा है। पर फ़ैसला, इशक दी राह टुरन दा फ़ैसला, हुंदा सुरत बुद्धी है जिवें रांझे ने करना है। इहदमढ ना ते ख़वाबां विच बज्झदा है (जिवें मुकबल विच) ते ना ही चाणचक किसे नाल टाकरे विच (जिवें दमोदर दास विच)।

इस बंद दे पहिले चार मसरेआं विच भाबीआं रांझे नूं ताना वी मार रहीआं हन ते उस नाल ठट्ठा वी कर रहीआं हन। मतलब इह कि तेरे वरगिआं दे वस दा रोग नहीं जो हीर सिआल नूं वियाह सकण। कहि ते उह इह रहीआं हन जो तों वंझली नाल प्रेम जाल विच फसा सकना हैं ते तैनूं रंनां नूं फसावन दा वल आउंदा है पर इह हे छड़ा मिहना। उन्हां नूं पता है जो रांझा वंझली औरतां फसावन लई ते उन्हां नूं धोका देवन लई नहीं वजाउंदा। इस लई उन्हां नूं इह वी पता है जो उह एडा औखा कंम कर ही नहीं सकदा। इस लई उहदा ठट्ठा करदिआं कहिंदीआं हन जो जे वियाह करवा के ना लिया सकें ते चोरी कड्ढ लियावीं।

भाबीआं नूं पक है जो रांझे वरगा मलूक जिहा मुंडा औकड़ां विच्चों लंघ के हीर सिआल वियाह ही नहीं सकदा। इह इक अनहुनी है। ते रांझे दा हीर वल टुर पैना इक मिथी मथाई अनहुनी या तकदीर नूं बदलन वाली गल है। ते इशक है ही इक अनहुनी , जिहड़ी हुंदी वरती नूं परता दिंदी है। इस राह ते टुरन वाले नूं वी पता हुंदा है जो होनी नाल मत्था ला रिहा है।

अख़ीर ते वारिस शाह आप वी भाबीआं दे ठट्ठे विच रल जांदा हे। उहनूं पता है समाज दीया॓ भरजाईया॓ इह सभ ठट्ठा उस नाल वी ते कर रहीया॓ हन। उसदा जीवन ढंग वी ते शाइर दा इक कलाकार दा है, उस नाल वी ते उहो होना है या हुंदा होवे गा जो उस दे किरदार रांझे नाल हो रिहा है। इस लई उह वी इस लई उह भाबीया॓ दे ठट्ठे नूं मंदीआं रांझे नाल टुर पैंदा है। उह अनहुनी नूं होंद विच लिआउण दा हिस्से दार है।

अग्गे जा के वी असीं वेखांगे जो जित्थे रांझे नूं भीड़ पैंदी है या उस नाल धरू हुंदा है वारिस शाह झट्ट रांझे दा रूप वट्टा लैंदा है।

 

More

Your Name:
Your E-mail:
Subject:
Comments: